Pages

Tuesday, May 1, 2012

शीत ऋतू


रोहतांग दर्रा , मनाली........

शीत ऋतू

मौसम ने ली अंगड़ाई,
देखो जाड़े की ऋतु हैं आई |
सर्दी का अजब हैं खेल ,
चारों ओर बर्फ का ढेर |
प्रकृति ने भी बदला रंग,

 
हरा छोड़ पहना रंग सफ़ेद |
मौसम को यह सुन्दर इशारा,
कितना प्यारा लगता हैं यह नजारा |
मौसम ने ली अंगड़ाई,
देखो जाड़े की ऋतु हैं आई |

=========== 

7 comments:

  1. आपकी रचना पढ़कर सर्दी की कल्पना होने लगी है!
    आज चार दिनों बाद नेट पर आना हुआ है। अतः केवल उऊपस्थिति ही दर्ज करा रहा हूँ!
    --
    ओह! यहाँ तो शब्दपुष्टीकरण भी करना होगा। बस यही काम मेरे लिए कष्टदायी होता है।
    आप शब्दपुष्टीकरण हटा दीजिए न!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सर जी....
      मुझे पता नहीं था की यहाँ पर शब्द्पुष्टिकरण लगा हुआ हैं, आपके कहे अनुसार मैंने अब उसके हटा दिया हैं.....इस ओर ध्यान दिलाने के लिए धन्यवाद !

      Delete
  2. इन पंक्तियों ने दिल छू लिया... बहुत सुंदर ....रचना....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धनयवाद संजय भास्कर जी.....

      Delete
  3. BEAUTIFUL LINES WITH GREAT FEELINGS

    ReplyDelete